7/6/17

जीएसटी हिंदी में

कैसे करें रजिस्ट्रेशन: जीएसटी पोर्टल पर लॉग-इन करें। प्रविजनल आईडी-पासवर्ड एंटर करें।

क्या-क्या चाहिए: आईडी-पासवर्ड एंटर करते ही एनरॉलमेंट ऐप्लिकेशन पेज पर जाएंगे, जहां अलग-अलग 8 टैब पर क्लिक कर ये जानकारियां देंः बिजनेस डिटेल्स, प्रमोटर या पार्टनर, अथॉराइज्ड सिग्नेटरी, कारोबार का मुख्य स्थान, कारोबार का अतिरिक्त स्थान, सामान और सेवाएं, बैंक अकाउंट। फिर डिजिटल सिग्नेचर का पेज खुलेगा, जिसे सबमिट करने के 15 मिनट के भीतर आपको ऐप्लिकेशन रेफरेंस नंबर (ARN)मिल जाएगा। 

यहां मिलेगी मदद: किसी भी तरह की परेशानी होने पर cbecmitra.helpdesk@gst.gov.in पर अपनी डिटेल्स भेज सकते हैं या हेल्पलाइन नंबर 1800-1200-232 पर कॉल कर सकते हैं। 

किसे कराना होगा रजिस्ट्रेशन: अगर टर्नओवर 20 लाख रुपये के ऊपर है और आप वैट, एक्साइज या सर्विस टैक्स में रजिस्टर्ड हैं तो बिना प्रोविजिनल जीएसटी रजिस्ट्रेशन के जीएसटी लागू होते ही आप अनरजिस्टर्ड कैटेगरी में आ जाएंगे। नए रजिस्ट्रेशन के लिए 30 दिन का वक्त होगा। पिछले इनपुट क्रेडिट और रिफंड के लिए आपको रजिस्टर्ड होकर माइग्रेट करना चाहिए। 

रजिस्ट्रेशन खर्च: अगर खुद कर रहे हैं तो मुफ्त में हो सकता है क्योंकि रजिस्ट्रेशन की कोई फीस नहीं है। सीए या आईटी सॉल्यूशन फर्म की मदद ले रहे हैं तो 1000 से 3000 रुपये तक खर्च आ सकता है।

क्या है GS-TIN: एनरॉलमेंट नंबर मिलने का मतलब है कि रजिस्ट्रेशन लगभग तय। डिपार्टमेंट सेल्स डिटेल्स सहित
कुछ जानकारियां अपलोड करने को कह सकता है। इसके बाद एक प्रोविजिनल जीएसटी रजिस्ट्रेशन नंबर जारी होगा जो जीएसटी लागू होने के बाद स्थायी टिन नंबर होगा।

जीएसटी रजिस्ट्रेशन कैसे करें – How to Apply For GST Registration in Hindi

आप को भरना होगा Part-A का Form GST REG-01. और देना होगा  PAN, mobile number, and E-mail ID, उसके बाद सबमिट करना होगा अपना फॉर्म।
आप का PAN verified होगा  GST Portal पर और  Mobile number, and E-mail ID का सत्यपान one-time password (OTP) के द्वारा होगा।
आप को एप्लिकेशन रेफ्रन्स नंबर आप के mobile और मैल द्वारा भेजा जाएगा।
अब आप को एप्लिकेशन GST REG-01 के Part- B में application reference number डालना है जो आप को मैल पर या मोबाइल inbox में प्राप्त हुआ है। सभी ज़रूरी मांगे हुए डॉकयुमेंट के साथ अब फॉर्म को सबमिट कर दें।
Documents list –

Photographs: Photographs of proprietor, partners, managing trustee, committee etc. and authorized signatory
Constitution of taxpayer: Partnership deed, registration certificate or other proof of constitution
Proof of principal / additional place of business :
For own premises– मालिकाना हक़ दिखने वाला कोई दस्तावेज़ ownership of the premises  जैसे की latest property tax receipt या फिर Municipal Khata copy या electricity bill कॉपी।
For rented or leased premises – rent / lease agreement घर मालिक के documents जैसे की property tax receipt या फिर Municipal खाता कॉपी। या फिर electricity bill.
Bank account related proof: बैंक खाते के पासबूक के पहले पाने की Scanned copy  और bank statement
Authorization forms: इस के लिए website से इन्फॉर्मेशन प्राप्त होगी।
अगर आप नें Form GST REG-01 or Form GST REG-04 में बताई गयी सभी जानकारी सही सही प्रदान कर दी है तो, आप को registration certificate  फॉर्म सबमिट हो जाने के तीन दिन बाद प्राप्त हो जाएगी।
प्रदान की गयी जानकारी गलत हुई या उसमें कोई त्रुटि हुई तो आप का registration application reject हो जाएगा।

यहां कराना होगा जीएसटी रजिस्ट्रेशन (GST Registration)

ट्रेडर्स और कारोबारियों को www.gst.gov.in पर जाकर अपने आप को एनरोल कराना होगा।
ट्रेडर्स और कारोबारियों को अपना यूजर नाम (प्रॉविजनल आईडी) और पासवर्ड लेना होगा। प्रॉविजनल आईडी और पासवर्ड आपको स्टेट वैट, सेंट्रल एक्साइज, सर्विस टैक्स अथॉरिटी से मिलेगा।
मौजूदा टैक्सपेयर्स उन्हें मिले प्रॉविजनल जीएसटीएन (गुड्स एंड सर्विस टैक्स आइडेंटिफिकेशन) नंबर से एनरोल करा सकते हैं। जीएसटीएन नंबर को प्रॉविजनल आईडी भी कहते हैं।
आपको अपना मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी फीड करना होगा।
आपके फोन नंबर पर ओटीपी आएगा उसे आपको फीड करना होगा।
आपको अपनी जानकारी और स्कैन्ड फोटो अपलोड करनी होगी।
पैन कार्ड, बैंक अकाउंट और आईएसएससी कोड की जानकारी फीड करनी होगी।
ये सभी जानकारी को फीड कर सबमिट कर दें।
सबमिट करने के बाद आपके रजिस्टर्ड ईमेल आईडी और मोबाइल नंबर पर रजिस्ट्रेशन की जानकारी आ जाएगी।
एसीईएस पर भी कराना होगा रजिस्ट्रेशन (Register at ACES Portal for Provisional ID)

जीएसटी की वेबसाइट पर एनरोल कराने के बाद आपको यूजर नाम और पासवर्ड को ऑटोमेशन ऑफ सेंट्रल एक्साइज एंड सर्विस टैक्स (एसीईएस) की वेबसाइट https://www.aces.gov.in पर भी रजिस्ट्रेशन कराना होगा। यहां आप अपना टैक्स रिटर्न फाइल कर सकते हैं।
यदि आप जीएसटी पर माइग्रेट नहीं करना चाहते तो एसीईएस पोर्टल पर कन्फर्म कर दें और रिटर्न फाइल कर दें। ऐसा करने से आपकी आईडी और पासवर्ड कैंसल हो जाएगा। आप क्रेडिट माइग्रेशन नहीं कर पाएंगे।
सेंट्रल जीएसटी और स्टेट जीएसटी के लिए एक ही एनरोलमेंट नंबर होगा।

जीएसटी में एनरोल नहीं करने से होंगे ये नुकसान

जीएसटी में रजिस्ट्रेश नहीं कराने से ट्रेडर्स और कारोबारियों को वैट व्यवस्था में बकाया टैक्स क्रेडिट, इनपुट क्रेडिट का लाभ नहीं मिल पाएगा।
करोबारियों और ट्रेडर्स को वैट रिफंड नहीं मिल पाएगा।
रिटर्न फाइल करने से पहले आपको जीएसटी पर रजिस्ट्रेशन कराना होगा। बिना रजिस्ट्रेशन के टैक्स रिटर्न फाइन नहीं कर पाएंगे।
अकाउंटिंग और सिस्टम को नए टैक्स रेट के साथ अपग्रेड करा लें। सरकार इसके लिए ऐप और सॉफ्टवेयर भी लाएगी जिसे कारोबारी डाउनलोड कर सकते हैं।

कंपोजिट स्कीम का फायदा नहीं उठा पाएंगे।

No comments:

Post a Comment